Info@oakbridge.in
+91 124 430 5970

Paryavaran evam Paristhitiki – Ek Sampoorna Margadarshika, Second Edition

Paryavaran evam Paristhitiki – Ek Sampoorna Margadarshika, Second Edition

475.00

पर्यावरण और पारिस्थितिकी का द्वितीयसंस्करण पूरी तरह से संशोधित और अद्यतन आंकड़ों से परिपूर्ण है। यह पुस्तकसिविल सेवा प्रारंभिक और मुख्य परीक्षाओं के लिए इसविषयों पर एक सम्पूर्ण मार्गदर्शिकाहै। यह पुस्तक भारतीय वन सेवा परीक्षा में बैठने वाले विद्यार्थियों  के लिए भी उपयोगी साबित होगी।

द्वितीय संस्करण में

·       पूरी तरह से संशोधित और अद्यतन आंकड़ों से परिपूर्ण

·       नए विषयों का  समावेश:

पर्यावरण और पारिस्थितिकी का द्वितीयसंस्करण पूरी तरह से संशोधित और अद्यतन आंकड़ों से परिपूर्ण है। यह पुस्तकसिविल सेवा प्रारंभिक और मुख्य परीक्षाओं के लिए इसविषयों पर एक सम्पूर्ण मार्गदर्शिकाहै। यह पुस्तक भारतीय वन सेवा परीक्षा में बैठने वाले विद्यार्थियों  के लिए भी उपयोगी साबित होगी।

द्वितीय संस्करण में

·       पूरी तरह से संशोधित और अद्यतन आंकड़ों से परिपूर्ण

·       नए विषयों का  समावेश:

o  पर्यावरणीय अधिशासन ।

o  पर्यावरण के नवीनतम नियमों और विनियमों के साथ-साथ सुप्रीम कोर्ट के महत्वपूर्ण आदेशों का समावेश ।

o  नीति आयोग की रिपोर्टऔर हाल के वैश्विक रिपोर्ट का प्रस्तुतीकरण ।

o  आईपीसीसी रिपोर्टसहित जलवायु परिवर्तन के संबंध में नवीनतम घटनाक्रम पर अंतर्दृष्टि ।

·       पर्यावरणीय संगठनों, सम्मेलनों,समझौतों, पहलों आदि पर नया अध्याय ।

·       हाल के वर्षों (2011-19) में पूछे गए प्रश्नों का  संकलन ।

·       यूपीएससी मुख्य परीक्षा 2019  के पेपर्स में आए सवालों के मॉडल उत्तर  ।

·       अंत में वर्गीकृत टेस्ट सीरीज का प्रस्तुतीकरण  ।

 

आईआईटीमद्रास में पूर्व प्रोफेसर आर राजगोपालन स्कूलों, कॉलेजों और आम जनता के लिएपर्यावरण पर 17 पुस्तकों के लेखक हैं।प्रो. राजगोपालन देश भर में विविध समूहों (आईएएस अधिकारियों सहित) के लिए पर्यावरणपर प्रस्तुतियां और कार्यशालाओं का आयोजन करते हैं ।

About the Author 

R. Rajagopalan, a former Professor at IIT Madras, is the author of 17 books on environment for schools, colleges, and the general public. Prof. Rajagopalan gives presentations and conducts workshops on environment for diverse groups (including IAS officers) across the country.


Reviews

There are no reviews yet.

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.